Monday, April 22, 2024

रिलायंस जियो ने जियो स्पेस फाइबर के रूप में सैटेलाइट बेस्ड हाई स्पीड ब्राडबैंड वायरलेस इंटरनेट लांच किया

रिलायंस जियो ने जियो स्पेट फाइबर के रूप में सैटेलाइट बेस्ड हाई स्पीड ब्राडबैंड वायरलेस इंटरनेट। (Jio Space Fiber)

दूरसंचार की दुनिया में एक लंबी चलांग लगाते हुए रिलायंस जिओ ने देश के दूरदराज के दुर्गम क्षेत्रों को हाई स्पीड इंटरनेट से जोड़ने के लिए जियो स्पेस फाइबर (Jio Space Fiber) के रूप में नई टेक्नोलॉजी पेश की है।

जिओ स्पेस फाइबर सैटेलाइट बेस्ड गीगा फाइबर टेक्नोलॉजी पर आधारित है। इस टेक्नोलॉजी के तहत भारत के उन दुर्गम इलाकों पर भी इंटरनेट की पहुंच आसान हो जाएगी, जहां पर फाइबर केबल के माध्यम ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी की पहुंच बहुत मुश्किल है।

इस तरह देश के दूरदराज और दुर्गम क्षेत्रों में भी वायरलेस इंटरनेट के माध्यम से हाई स्पीड इंटरनेट की सुविधा पहुंचाई जा सकेगी।

रिलायंस जिओ ने 27 से 29 अक्टूबर तक दिल्ली के प्रगति मैदान में होने वाली इंडिया मोबाइल कांग्रेस में यह कॉन्सेप्ट पेश किया है।

जिओ स्पेस फाइबर के लिए ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी दुर्गम इलाकों तक पहुंचाने के लिए सैटेलाइट का इस्तेमाल किया जाएगा यानी अब सेटेलाइट के माध्यम से इंटरनेट हर जगह उपलब्ध कराया जाएगा।

जिओ स्पेस फाइबर की सहायता से अब कहीं पर भी हाई स्पीड इंटरनेट को एक्सेस किया जा सकेगा। जिओ के अनुसार ऐसे क्षेत्रों में इंटरनेट सर्विस देने के लिए जियो स्पेस फाइबर इनोवेटिव और एडवांस NCSO तकनीक का उपयोग करेगा।

जिओ स्पेस फाइबर प्रायोगिक तौर पर गुजरात के गिर क्षेत्र में तथा छत्तीसगढ़ के कोरबा और उड़ीसा के नवरंगपुर तथा असम के ओएनजीसी जोरहाट जैसे दुर्गम क्षेत्रों प्रायोगिक तौर पर चालू है। जल्दी देश के सभी क्षेत्रों को इस तकनीक से जोड़ा जाएगा।

गौरतलब है कि रिलायंस जिओ पहले से ही जिओ फाइबर और जिओ एअर फाइबर के माध्यम से घर-घर इंटरनेट ब्रॉडबैंड हाई स्पीड इंटरनेट कनेक्शन की सुविधा उपलब्ध करा रहा है। इसमें फिक्स्ड लाइन तथा वायरलेस इंटरनेट दोनों तरह के इंटरनेट सुविधा शामिल हैं। अब जिओ स्पेस फाइबर के माध्यम से वह देश के हर कोने में हाईस्पीड इंटरनेट पहुंचाने की योजना शुरु करने वाला है।

सेटेलाइट के माध्यम से हर जगह इंटरनेट पहुंचने की तकनीक पर एयरटेल भी काफी समय से कम कर रहा है और जिओ तथा एयरटेल दोनों भारतीय कंपनियां इस तकनीक में काफी निवेश कर चुकी हैं। एयरटेल भी अगले साल एयरटेल वनवेब के नाम से सैटेलाइट इंटरनेट कनेक्टिविटी की सेवा उपलब्ध कराने वाला है।

मोबाइल इंडिया कांग्रेस 2023 में भारतीय एयरटेल के अध्यक्ष सुनील मित्तल ने यह घोषणा की है कि एयरटेल कंपनी देश के लगभग 20 हजार गांवों तक सैटेलाइट कनेक्टिविटी पहुंचने के लिए अगले साल एयरटेल वन सैटेलाइट कनेक्टिविटी की सेवा लांच करने वाली है।

जियो और एयरटेल दोनों इंटरनेट कनेक्टिविटी की दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं, इससे वैश्विक उद्योगपति एलन मस्क द्वारा स्टाइल लिंक सर्विस के नाम से सेटेलाइट कनेक्टिविटी की सेवा भारत में लॉन्च करने की योजना को धक्का लगा है।

एलन मस्क भी काफी समय से सेटेलाइट इंटरनेट कनेक्टिविटी तकनीक को भारत के लॉन्च करने के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने विश्व में कई जगह पर यह तकनीक लॉन्च की है और वहां पर यह सफलतापूर्वक चालू है। अब वह भारत में भी यह तकनीक को लॉन्च करने की दिशा में कार्य कर रहे हैं, लेकिन जियो और एयरटेल ने पहले से ही काफी तैयारी करके एलन मस्क के भारतीय बाजार पर पूरी तरह से कब्जा करने की योजना पर लगाम लगा दी है।


व्हाट्सएप के फेक मैसेज पर लगाम लगाने के लिए सरकार का बड़ा कदम – अब व्हाट्सएप मैसेज में ओरिजनल और सबसे पहले सेंडर का पता चल सकेगा, इससे फारवर्ड किए जाने वाले फेक मैसेज पर लगाम लगेगी

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

mindians.in

Latest Articles